Main Menu
Main Menu
आगंतुक काउंटर
0 1 6 3 6 0 8 6
जीआरएसई में आपका स्वागत है ।

गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एण्ड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) रक्षा मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन भारत की एक प्रमुख युद्धपोत निर्माण कंपनी है । 1960 से जीआरएसई ने स्टेट ऑफ आर्ट फ्रिगेट एवं कोर्वेट से लेकर फास्ट पैट्रोल बोटों तक विभिन्न भूमिकाओं के लिए युद्धपोतों का निर्माण किया है । जीआरएसई ने देश की रक्षा तैयारी में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और देश में युद्धपोत के डिजाइन व निर्माण के राष्ट्रीय लक्ष्य हेतु सदैव अग्रसर रही है । जीआरएसई ने लोगों और सामग्री को ले जाने तथा साथ ही तटीय रेखा की निगरानी के लिए करीब 700 जलयानों का निर्माण एवं आपूर्ति की है । पोत निर्माण और पोत मरम्मत के अतिरिक्त जीआरएसई उन कतिपय बहुमुखी शिपयार्डों में से एक है, जिनका अपना इंजीनियरिंग और इंजन प्रभाग है । 05 सितंबर 2006 को जीआरएसई को मिनी रत्न – श्रेणी I का दर्जा दिया गया ।

शिपयार्ड आधुनिकीकरण परियोजना का द्वितीय चरण पूरा हो गया और नई सुविधाओं का उद्घाटन जून 2013 में किया गया । आधुनिकीकृत आधारभूत सुविधाएं शिपयार्ड को अद्यतन मॉड्यूलर निर्माण तकनोलोजी के प्रयोग से बड़े पोतों का निर्माण करने में सक्षम बनाती हैं ।
Read More

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष (पीएमएनआरएफ़) में दिये जाने वाले सभी प्रकार के दान आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80जी के अंतर्गत 100% कर मुक्त होंगे ।

                                       राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल - www.nvsp.in

                                                 अंतिम संशोधन: 25 Apr 2017

Latest Events
  
58वीं सालगिरह समारोह

  
एलसीयू, एल-51 का 28 मार्च 17 को प्रवर्तीकरण

  
जीआरएसई विप्स सेल द्वारा 21 मार्च 17 को कार्यशाला का आयोजन

  
वॉटर जेट फास्ट अटैक क्राफ्ट (डबल्यूजेएफ़एसी), “आईएनएस तिलांचांग” का 09 मार्च 17 को विशाखापत्तनम में प्रवर्तीकरण

  
मैसर्स एमटीयू के साथ 04 मार्च 17 को समझौता ज्ञापन

  
रियर एडमिरल वी के सक्सेना, भानौ (सेवानिवृत्त) ने 01 मार्च 17 से जीआरएसई के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक का कार्यभार ग्रहण किया है ।

  
जीआरएसई में गणतन्त्र दिवस आयोजित

  
रियर एडमिरल ए के वर्मा, वीएसएम, भानौ (सेवानिवृत्त), अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक निदेशक, जीआरएसई की सेवानिवृत्ति

  
पश्चिम बंगाल के महामहिम राज्यपाल 23 दिसम्बर 16 को जीआरएसई पधारे

  
21 दिसम्बर 2016 को 2nd वॉटर जेट फास्ट अटैक क्राफ्ट "तिलांचांग" का भारतीय नौसेना को हैंडिंग ओवर

  
16 दिसम्बर 2016 को लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी (यार्ड 2099) का जलावतरण

Photo Gallery